2020年国产天天弄天天谢_日本免费高清AV在线看_亚洲在线天堂视频_欧洲欧洲黄页网址免费
article
Jul 09, 2020, 18:37 IST

??? ????? ?????? ?? ????? – ???????? ???? ????? ?? ????

2781
?????
0
?????
?????????? ????? ??? ??????

वैदिक ज्योतिष के अंतर्गत बृहस्पति ग्रह को देवगुरु का दर्जा प्राप्त है.... लाल किताब की अवधारणा भी इससे भिन्न नहीं हैं। लाल किताब के अंतर्गत गुरु यानि बृहस्पति ग्रह को देवताओं के गुरु के तौर पर स्वीकार किया गया है, जो धनु और मीन राशि के स्वामी हैं। कर्क राशि में बृहस्पति उच्च के होते हैं वहीं मकर में ये नीच के माने गए हैं।


सूर्य, मंगल और चंद्रमा को बृहस्पति देव का मित्र बताया गया है, वहीं शुक्र, बुध शत्रु और शनि-राहु बृहस्पति के साथ सम भाव रखते हैं। लालकिताब के अंतर्गत बृहस्पति ग्रह को काफी महत्वपूर्ण ग्रह माना गया है जो पीपल, पीला रंग, सोना, हल्दी, चने की दाल, पीले फूल, केसर, गुरु, पिता या पिता तुल्य, विद्या और पूजा-पाठ आदि के प्रतीक हैं।


लालकिताब के अंतर्गत इस बात का उल्लेख है कि जब बृहस्पति ग्रह, चंद्रमा और मंगल के साथ मिल जाते हैं तो उनकी शक्ति और ज्यादा बढ़ जाती है। वहीं सूर्य ग्रह के साथ से बृहस्पति के मिलने पर मान-प्रतिष्ठा बढ़ती है।




लाल किताब के अनुसार जिस जातक की कुंडली में बृहस्पति की स्थिति शुभ होती है वह सदाचारी,आस्तिक और मानवता में विश्वास करने वाला होता है, वहीं अगर उसकी कुंडली में गुरु का प्रभाव अशुभ है तो उसे अपने जीवन में कुछ महत्वपूर्ण लक्षण दिखाई देंगे जैसे सिर के बीचों बीच से बाल उड़ने लगते हैं, शिक्षा ग्रहण करने में परेशानी आती है, सपने में सांप दिखाई देते हैं, विवाह में बाधा, नेत्रों की समस्या रहती है, उसे अपने विरुद्ध अफवाहों का सामना करना पड़ता है, उसकेगले में दर्द रहता है और फेफड़ों की समस्या का सामना करना पड़ता है।


आइए जानें लाल किताब के अंतर्गत गुरु यानि बृहस्पति ग्रह को शांत और मजबूत करने के लिए क्या उपाय किए जाने चाहिए


हल्दी की गांठ को धागे में पिरोकर अपनी दाईं भुजा पर बांधें।


लगातार 27 गुरुवार तक केसर का तिलक लागाना और एक पुड़िया में केसर बांढकर अपने पास रखना चहिए।


पीले वस्त्र पहनें और घर में पीले रंग के पर्दे लगाएं।


घर में पीले सूरजमुखी का पौधा लगाने से लाभ होता है।


सोने की चेन और बृहस्पति यंत्र धारण करें


बृहस्पति की मजबूती के लिए व्यक्ति को माता-पिता और गुरुजनों का आदर करना चाहिए।


धार्मिक स्थल पर जाकर निशुल्क सेवा करनी चाहिए।


महीने के हर बुधवार मंदिर जाकर केले के पेड़ के नीचे घी का दीपक जलाना चाहिए।


गुरुवार के दिन आटे की लोई में चने की दाल, गुड़ और हल्दी डालकर गाय को खिलाने से लाभ होता है।


0 ?????
?????
0 ???????? ???? ????? ???????? ???? ?????
 
?????? ????? ?????? ?????
2020年国产天天弄天天谢_日本免费高清AV在线看_亚洲在线天堂视频_欧洲欧洲黄页网址免费